essay on holi in hindi | holi par Nibandh Hindi Mein

Short Essay On Holi In Hindi | होली के बारें में निबंध 

Essay On Holi In Hindi

दोस्तों आज हम आपके लिए “holi ka tyohar nibandh”, “holi mein nibandh”, “holi nibandh in hindi” और  holi essay in hindi 10 lines (होली पर निबंध 10 लाइन हिंदी में) लेकर आये हे जो आपको एक एक करके नीचे स्क्रॉल करने पे मिलजाएंगी। 

आपको और भी ऐसे ब्लॉगस पढ़ने है तो चैक कीजिये हमारे वेबसाइट –

Essay on Holi in Hindi | holi par Nibandh Hindi Mein

दोस्तो आज के इस लेख में हम पेश करने जा रहे है रंगो के त्योहार होली के ऊपर निबंध (essay on holi in hindi). हमारी वेबसाइट पर आपको और भी ऐसे विषयों पर निबंध मिलेंगे।

 

प्रस्तावना

होली का उत्सव अपने साथ सकारात्मक ऊर्जा लेकर आता है और आसमान में बिखरे गुलाल की तरह ऊर्जा को चारों ओर बिखेर देता है। इस पर्व की ख़ास तैयारी में भी लोगों के अंदर बहुत अधिक उत्साह को देखा जा सकता है।

 

होली मनाने की वजह | why is holi celebrated in hindi?

होली को मार्च के महीने में मनाया जाता है। हिंदी कैलेंडर के हिसाब से इसको फाल्गुन महीने के आखिरी दिन मनाया जाता है। यह त्यौहार बहुत हर्ष और उल्लास के साथ मनाया जाता है। होली का त्यौहार जीत व् नए युग की शुरुआत को दर्शाता है।  इसका नाम होलिका के नाम से लिया गया है।  होलिका हिरण्य कश्यप की बहन थी जो की एक नास्तिक था और भगवन में नहीं मानता था। उसका बेटा प्रह्लाद भगवन विष्णु का भक्त था। उसकी यह भक्ति हिरण्य कश्यप को पसंद नहीं आती थी। हिरण्य कश्यप ने प्रह्लाद को भगवान की भक्ति से दूर करने के हर प्रकार के प्रयास किएहाथी के पैरों तले कुचलने और पहाड़ से फेंककर भी जब प्रहलाद को नहीं मार सका तो हिरण्यकश्यप ने अपनी बहन की होलिका की मदद से प्रह्लाद को जलाकर मारने की योजना बनाई। होलिका को यह वरदान मिला था कि अग्नि में वह नहीं जलेगी। इसलिए लकड़ियों के ढेर पर वह प्रह्लाद को गोद में लेकर बैठ गई और उसमें आग लगा दी गई। इस होलिका की गोद में बैठा बालक् प्रह्लाद भगवान का नाम जपता रहा और उसका बाल भी बाँका नहीं हुआ जबकि वरदान प्राप्त होलिका अपनी दुष्ट इच्छाओं के चलते जलकर भस्म हो गई। बुराई पर अच्छाई की जीत की याद में तभी से होली का त्योहार मनाया जा रहा है।

( holi ka nibandh in hindi  )

 

होली कैसे मनाई जाती है 

होली का त्यौहार होली की रात्रि से एक दिन पूर्व आरंभ हो जाता है। लोग अपने अपने गांव,मोहल्ले में उपलो,लकड़ियों का ढेर इकट्ठा करते हैं । फिर शुभ घड़ी में इस ढेर यानी होलिका में अग्नि प्रज्वलित की जाती है। इसी अग्नि में लोग नए अनाज की बाली भूनकर अपने आराध्य को अर्पित करते हैं।होलिका दहन अगला दिन रंग-भरी होली का होता है। इसे धुलैंडी भी कहते हैं। इस दिन सभी धर्म और जाति के छोटे-बड़े बच्चे-बूढ़े, स्त्री-पुरुष एक दूसरे को गुलाल लगाते हैं और रंग डालते हैं।सड़कों पर मस्त युवकों की टोली गाती बजाती निकलती है। एक-दूसरे को मिठाईयां खिलाते हैं और अपने मधुर संबंधों को और भी प्रगाढ़ बनाते हैं।

 

उपसंघार

यह होली का त्यौहार लोगों को एक करने के लिए मनाया जाता है। यह होली का त्यौहार सभी छोटे-बड़े, बुजुर्ग, भाई-बहन, आस-पड़ोस इत्यादि लोग एक साथ मिलकर मनाते हैं। यह त्यौहार गुलाल और रंगों के द्वारा मनाया जाता है।

 

10 Lines on Holi Essay in Hindi:-

(होली पर निबंध 10 लाइन हिंदी में)

होली पर निबंध ( holi essay in hindi 10 lines ) अक्सर विद्यार्थी के परीक्षा मई आये जाते है।  इसलिए आज हम “होली पर 10 लाइन निबंध” भी लेकर आये है जिससे की यह आर्टिकल आपके परीक्षा  या आने वाले कम्पटीशन में  आपकी मदत करेंगी। दोस्तों यह 10 पॉइंट class 1, 2, 3, 4, 5, 6, 7, 8, 9, 10, 11, 12 के विद्यार्थियों के लिए भी लिखी गई है।

  1. होली खाशकर हिन्दू धर्म के लोग मनाते है। हमारे हिन्दू धर्म में और भी त्यौहार है जैसे की मकर संक्रांति, दिवाली। 
  2. होली को रंगो का त्यौहार भी कहते है। 
  3. होलिका का दहन होली से एक दिन पहले किया जाता है। 
  4. धुलेंडी होली के दूसरे दिन मनाया जाता है , इस दिन पुरी भारत वार्स मे सब लोग रंगों और पानी से खेलते है। 
  5. अच्छाई की जीत हुई थी होलिका के दहन के दिन। 
  6. होली त्यौहार को मनाने के पीछे प्रहलाद और हिरण्यकश्यप की कथा है।
  7. इस दिन लोगो के घरो में गुजिया पकोड़े और ढेर सरे पकवान बनते है।
  8. होली प्रत्येक वर्ष फाल्गुन मॉस की पूर्णिमा को मनाई जाती है।
  9. होली त्यौहार को बच्चे बूढ़े सभी बड़े प्यार और स्नेह के साथ मिलकर मनाते है।
  10. होली का पर्व को 2 दिन तक मनाया जाता है।

 

दोस्तों मैं आसा करता हु की यह Essay On Holi In Hindi और 10 Lines on Holi Essay in Hindi आपको अच्छा लगा होगा, अगर आपको यह निबंध आपको पसंद आई हो तोह आपको हमारी और भी articles पसंद आएँगी जैसे की Essay On Republic Day in Hindi , Makar sankranti essay in hindi । अगर आपको अपनी Essay ya poem को फीचर करना है तोह आप हमे कमेंट करके बता सकते है।

Leave a Reply

Your email address will not be published.